इस दिग्गज नेता का राजीव गांधी ने दिया था साथ, 93 साल में ली अखिरी सांस

दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा का निधन हो गया है। वोरा ने 93 साल में दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली।

0
345
Death of Motilal Vora
दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा का निधन हो गया है। वोरा ने 93 साल में दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली।

New Delhi: कांग्रेस के दिग्गज नेता मोतीलाल वोरा (Death of Motilal Vora) का निधन हो गया है। मोतीलाल वोरा ने 93 साल में दिल्ली के फोर्टिस एस्कॉर्ट हॉस्पिटल में अंतिम सांस ली। बता दें कुछ दिने पहले वे कोरोना संक्रमित हुए थे और कई दिनों से एम्स में अपना इलाज करा रहे थे। वोरा के निधर पर पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने श्रद्धांजलि देते हुए कभी न भूलने वाला नेता कहा है। इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोदी ने भी वोरा (Death of Motilal Vora) को याद करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित की है। 

ड्रग्‍स मामले में आरोपी हुए बरी तो महिला पुलिस अफसर ने वापिस किया मेडल

मोतीलाल वोरा (Death of Motilal Vora) का राजनीतिक सफर काफी अच्छा रहा। वे हमेशा दिग्गज नेताओं में शुमार रहे और करीब 50 सालों से कांग्रेस के साथ संगठनों में जुड़े रहे हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके वोरा का राजनीतिक सफर 1960 के दशक में शुरू हुआ था और शुरुआत में वोरा समाजवादी विचारधारा वाली पार्टी के साथ जुड़े थे, लेकिन उसके बाद 1970 में कांग्रेस में आए और कांग्रेस पार्टी के उच्च पदों पर रहने के बाद राज्यसभा तक भी पहुंचे। वोरा विवादों में भी फंसे लेकिन अपने कामों के चलते राजीव गांधी के चहेते बने रहे।

1983 में इंदिरा गांधी सरकार में वोरा को कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1985 में वोरा ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री का पद संभाला। इसके बाद राजीव गांधी सरकार में भी वोरा शामिल हुए, जिसके बाद वोरा को राज्यसभा के सदस्य के तौर पर उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया गया था। खास बात ये है कि मोतीलाल वोरा ने राजनीति में कदम रखने से पहले पत्रकारिता की थी। यानी वे पत्रकार थे। 

जनता के दिल में छाया कमल, बंगाल में दीदी पर गरजे शाह

राजस्थान के जोधपुर में ब्रिटिश इंडिया के जमाने में जन्मे वोरा ने छत्तीसगढ़ के रायपुर और कलकत्ता से शिक्षा हासिल करने के बाद कई अखबारों के साथ काम किया था। इसके अलावा, वोरा सामाजिक कामों में भी हमेशा आगे रहे थे। इसके बाद वह अर्जुन सिंह सरकार में मंत्री रहने के अलावा उत्तर प्रदेश के राज्यपाल भी रहे। वोरा के बेटे अरुण वोरा भी राजनीति में शामिल हैं और छत्तीसगढ़ के दुर्ग से तीन बार विधायक का चुनाव जीत चुके हैं। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here