इन 18 राज्यों में पटाखों पर लगेगी रोक, NGT ने दिया आदेश

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस बात को साफ कर दिया है कि इस बार कोरोना के चलते बाजार में फटाके नहीं मिलेंगे।

0
285
Crackers Ban in India
नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस बात को साफ कर दिया है कि इस बार कोरोना के चलते बाजार में फटाके नहीं मिलेंगे।

New Delhi: दिवाली एक ऐसा त्योहार है जिसको बच्चे, बुर्जग सभी खूब एन्जॉय करते है। खासकर दिवाली पर पटाखे फोड़ना किसको पंसद नहीं होता। बड़ा हो या छोटा सभी को पटखों की गुंज (Crackers Ban in India) सुनने का मन करता है। लेकिन इस बार फटाखे फोड़ना मुश्किल होता दिखाई दे रहा है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने इस बात को साफ कर दिया है कि इस बार कोरोना के चलते बाजार में फटाखे नहीं मिलेंगे। पटाखों से होने वाले प्रदूषण को गंभीरता से लेते हुए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने भारत के 18 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को नोटस जारी कर दिया है। अलग-अलग समूहों द्वारा 30 नवंबर तक पटाखों पर प्रतिबंध (Crackers Ban in India) लगाने की मांग की है।

देश के इन शहरों में आने वाला है बड़ा संकट, वक्त रहते बरतनी होगी सावधानी

बता दें एनजीटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति आदर्श कुमाल की पीठ (Crackers Ban in India) ने इस मामले में पहले से ही दिल्ली, हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सरकारों को पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का नोटिस भेज दिया था। जबकि राजस्थान और ओडिशा सरकारों ने अपने राज्यों में पटाखों की खरीद और बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए अधिसूचना जारी की है। दरअसल NGT आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम, बिहार, चंडीगढ़, छत्तीसगढ़, गुजरात, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मेघालय, नागालैंड, तमिलनाडु, तेलंगाना, और उत्तराखंड के पटाखों से होने वाले प्रदूषण को रोकने के लिए प्रतिबंध लगाया जा रहा हैं।

भारत में कोरोना का कहर जारी, पिछले 24 घंटों में कोविड-19 के 50,210 नए केस

पीठ ने कहा कि सभी संबंधित राज्य, जहां हवा जहरीली (Crackers Ban in India) है उस जगह पर पूरी तरह से पटाखों को बंद कर दिया जाएगा। लेकिन ओडिशा और राजस्थान जैसी जगहों पर खरीद और बिक्री के कदम पर विचार किया जा सकता हैं। केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने चार राज्यों को नोटिस जारी कर इसका जवाब मांगा था। याचिकाओं में 7 से 30 नवंबर तक पटाखों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है। इस बार दिवाली बिना पटाखों के फीकी-फीकी सी निकलेगी। सवाल यह उठता है कि क्या पराली जलाने से प्रदूषण नही होता? क्या एक साल में एक बार त्योहार पर पटाखों से प्रदूषण का स्तर बिगड़ जाएगा।

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here