कब आएगी कोरोना वैक्‍सीन, कुछ इस तरह अपडेट देगी सरकार…

कोरोना की चार-चार वैक्‍सीन का अंतरिम एफेकसी डेटा सामने आ चुका है ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन ओवरऑल 70.4% असरदार साबित हुई

0
384
Covid 19 Vaccination
देश में इस दिन से लगेगी कोरोना की वैक्सीन, जानिए इसके बारे में सब कुछ

New Delhi: कोरोना की चार-चार वैक्‍सीन का अंतरिम एफेकसी डेटा (Efficacy Data) सामने आ चुका है। ऑक्‍सफर्ड-एस्‍ट्राजेनेका की वैक्‍सीन (Corona Vaccine Update) ओवरऑल 70.4% असरदार साबित हुई। जबकी बाकी तीनों का सक्‍सेस रेज 94% से ज्‍यादा रहा। ऑक्‍सफर्ड के टीका का खास डोज 90% तक असर करता है।

WHO ने दुनिया को चेताया, कहा कोविड-19 की तीसरी लहर के लिए हो जाए तैयार

रूसी वैक्‍सीन को छोड़कर और सभी वैक्‍सीन अब रेगुलेटर्स के पास इमर्जेंसी अप्रूवल के लिए भेजी जाएंगी। कोरोना वैक्‍सीन के अगले साल की शुरुआत में आने की संभावना तय हो गई है। भारत सरकार ने (Corona Vaccine Update) वैक्‍सीन लगाने कि पलान लगभग तैयार कर ली है। जरुरत के आधार पर टीका किन्‍हें और कैसे दिया जाए, इसका पूरा खयाल रखा जाएगा।

भारत में प्राथमिकता के आधार पर सबसे पहले टिका हेल्‍थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और सीनियर सिटिजंस को मिलेगा। इस हाई प्रॉयरिटी ग्रुप में जो भी शामिल होगा, उन्‍हें SMS के जरिए टीकाकरण की तारीख, वक्त और जगह की जानकारी दि जाएगी।

पीएम मोदी ने दिया बड़ा बयान, कहा- ‘हमें नहीं पता कब आएगी वैक्सीन!’

आपको बता दें, पहली डोज लगने के बाद, दूसरी डोज के लिए SMS  किया जाएगा। और जब टीकाकरण पूरा हो जाएगा तो डिजिटल QR आधारित एक सर्टिफिकेकट भी दिया जाएगा जो वैक्‍सीन लगने का सबूत होगा। साथ ही एक डिजिटल प्‍लेटफार्म बनाया जा रहा है जिसके जरिए कोविड टीकों के स्‍टॉक और डिस्‍ट्रीब्‍यूशन/वैक्‍सीनेशन को ट्रैक किया जा सके।

वही मंगलवार को पीएम मोदी ने कोरोना वैक्‍सीन पर अपडेट्स दिए। प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वैक्‍सीन पर जो प्रमुख बातें कहीं, वो इस प्रकार हैं…

  • कौन सी वैक्‍सीन कितनी कीमत में आएगी, यह तय नहीं किया गया है।
  • भारत सरकार अपने नागरिकों को जो भी वैक्‍सीन देगा, वो हर वैज्ञानिक जांच पर खरी उतरेगी।
  • वैक्‍सीन के डिस्‍ट्रीब्‍यूशन के लिए राज्‍यों के साथ मिलकर तैयारी कि जा रही है।
  • वैक्‍सीन का एक विस्‍तृत प्‍लान जल्‍द ही राज्‍यों से साझा कर दिया जाएगा।
  • कोरोना वैक्‍सीन को लेकर निर्णय वैज्ञानिक तराजू पर ही तौला जाना चाहिए। क्योंकि हम कोई वैज्ञानिक नहीं है हमें व्‍यवस्‍था के तहत ही चीजों को स्‍वीकार करना होगा।

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here