कांग्रेस में चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर कार्रवाई की मांग

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की लखीमपुर खीरी इकाई ने सोनिया गांधी को नामित करते हुए एक प्रस्ताव लिखकर जितिन प्रसाद समेत चिट्ठी लिखने वाले सभी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

0
205
Jitin Prasada
कांग्रेस में चिट्ठी लिखने वाले नेताओं पर कार्रवाई की मांग

Delhi: पिछले दिनों कांग्रेस (Congress) के नए अध्यक्ष की मांग को लेकर लिखी गई चिट्ठी लिखी गई, जिसके बाद पार्टी की अंदरुनी कलह भी खुलकर सामने आई. और कांग्रेस कार्यसमिति (CWC) की बैठक में इसपर मंथन भी हुआ. अब इस चिट्ठी को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद (Jitin Prasada) को निशाना बनाया जा रहा है. आपको बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को लिखे इस पत्र में जिन 23 नेताओं के दस्तखत किये उनमें जितिन प्रसाद भी थे. जिसके बाद अब उत्तर प्रदेश कांग्रेस उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रही है. वही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल (Kapil Sibal) ने इस मांग को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताया है.

देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के रिकॉर्ड 75,760 नए केस

कपिल सिब्बल ने ट्वीटर के जरिए प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ‘दुर्भाग्यपूर्ण है कि जितिन प्रसाद (Jitin Prasada) को उत्तर प्रदेश में आधिकारिक तौर पर निशाना बनाया जा रहा है. कांग्रेस को अपनी ही पार्टी के नेताओं को निशाना बनाने में एनर्जी खत्म करने के बजाय बीजेपी पर सर्जिकल स्ट्राइक की तरह टारगेट करने की जरुरत है.’ गौरतलब है कि कपिल सिब्बल भी चिट्ठी पर दस्तखत करने वाले नेताओं में से एक हैं. वही UPA सरकार में मंत्री रह चुके मनीष तिवारी (Manish Tewari) ने कपिल सिब्बल के ट्वीट पर ‘प्रेसिएंट (भविष्य ज्ञानी)’ लिखा. मनीष तिवारी भी चिट्ठी लिखने वालों नेताओं में शामिल है.

रिया चक्रवर्ती ने यूरोप ट्रिप को लेकर किया खुलासा, खोले एक-एक राज़

इससे पहले उत्तर प्रदेश कांग्रेस की लखीमपुर खीरी इकाई ने सोनिया गांधी को नामित करते हुए एक प्रस्ताव रखा है. जिसमें उन्होंने जितिन प्रसाद समेत चिट्ठी लिखने वाले सभी नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. इस प्रस्ताव में लिखा है, ‘पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले उत्तर प्रदेश के जितिन प्रसाद एकमात्र व्यक्ति हैं. उनका पारिवारिक इतिहास गांधी परिवार के खिलाफ रहा है और उनके पिता स्वर्गीय जितेंद्र प्रसाद ने सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़कर इसे साबित किया था. इसके बावजूद सोनिया गांधी ने जितिन प्रसाद को लोकसभा का टिकट दिया और मंत्री बनाया. उन्होंने जो किया वह घोर अनुशासनहीनता है और जिला कांग्रेस कमेटी उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई चाहती है और उनके कार्यों की निंदा करती है.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here