मोदी कैबिनेट में 7 महिलाओं को मिला मौका, कुछ पहली बार बनी मंत्री

महिलाओं को भी मौका दिया गया है। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब सरकार में महिलाओं की भूमिका और संख्या दोनों बढ़ गई है।

0
340
Cabinet Expansion
महिलाओं को भी मौका दिया गया है। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब सरकार में महिलाओं की भूमिका और संख्या दोनों बढ़ गई है।

modNew Delhi: पीएम मोदी कैबिनेट (Cabinet Expansion) में विस्तार किया गया, इस बीच महिलाओं को भी मौका दिया गया है। मंत्रिमंडल विस्तार के बाद अब सरकार में महिलाओं की भूमिका और संख्या दोनों बढ़ गई है। मंत्रिपरिषद विस्तार में कुल 15 कैबिनेट और 28 मंत्री बनाए गए हैं। कुल सदस्यों की संख्या 78 हो गई है। 

आज कैबिनेट में किसे मिलेगी जगह और किसकी होगी छुट्टी, यूपी में इन नेताओं की हो सकती है एंट्री

महिलाओं में अनुप्रिया को छोड़कर सभी 6 नेता पहली बार केंद्रीय मंत्री बनी हैं। नरेंद्र मोदी (PM Modi) सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान मंत्रिपरिषद में 9 महिला मंत्री थीं, जिनमें छह कैबनेट थीं।

अनुप्रिया को दूसरी बार मिला मंत्री पद

अपना दल की अनुप्रिया पटेल (Anupriya Patel) को मंत्रिमंडल में जगह मिली, जो ओबीसी वर्ग से आती हैं। 40 साल की अनुप्रिया पटेल यूपी के मिर्जापुर से सांसद हैं। 2014 में जब मोदी सरकार बनी थी। उस वक्त अनुप्रिया को केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री बनाया गया था। 2019 में जब दूसरी बार मोदी सरकार बनी तो अपना दल को मंत्रिमंडल में जगह नहीं मिली थी। 

मीनाक्षी लेखी

लोकसभा सीट से सांसद मीनाक्षी लेखी (Meenakshi Lekhi) को मोदी कैबिनेट में शामिल किया गया है। मीनाक्षी लेखी पार्टी और सरकार का पक्ष संसद से लेकर न्यूज़ चैनलों तक में मजबूती से सामने आती हैं। 54 साल की लेखी को मोदी मंत्रिमंडल में शामिल कर एक बड़ी जिम्मेदारी दी गई है। मीनाक्षी लेखी ने 2014 में नई दिल्ली सीट से कांग्रेस के अजय माकन को भारी मतों से हराया था। 

अन्‍नपूर्णा देवी को मिली जिम्मेदारी

झारखंड से बीजेपी की सांसद अन्‍नपूर्णा देवी (Annapurna Devi) को भी मोदी कैबिनेट में जगह मिली है। सांसद के रूप में देवी ये पहला कार्यकाल है। अन्नपूर्ण देवी झारखंड और बिहार में 4 बार विधायक रहीं हैं। अन्‍नपूर्णा देवी सिंचाई, महिला और बाल कल्याण जैसे विभागों की मंत्री रह चुकी हैं। 

गुजरात से किसको मिली जगह

सूरत से लोकसभा सांसद दर्शन विक्रम जरदोश (Vikram Jardosh) तीसरी बार संसद तक पहुंची हैं। दर्शन विक्रम जरदोश सूरत नगर निगम की पार्षद भी रह चुकी हैं और गुजरात समाज कल्याण बोर्ड की सदस्य भी रहीं हैं। 

पूर्वोतर से किसको मिला मौका

त्रिपुरा की सांसद प्रतिमा भौमिक (Pratima Bhowmik) ने केंद्रीय राज्य मंत्री के रूप में शपथ ली। 52 साल की सांसद 2019 में पश्चिम त्रिपुरा निर्वाचन क्षेत्र से सांसद रहीं हैं। लोकसभा सदस्य सलाहकार समिति की सदस्य भी हैं। 

मोदी कैबिनेट का शपथग्रहण समारोह शुरु

आदिवासी समाज की महिला को मिली जगह

महाराष्ट्र के डिंडोरी क्षेत्र से सांसद भारती पवार (Bharti Pawar) को भी कौबिनेट में जगह मिली है। भारती पवार पहली बार लोकसभा का चुनाव जीतकर संसद पहुंची हैं। राजनीति में आने से पहले वे एक डॉक्टर थीं। उनके पास एमबीबीएस की डिग्री है। 

शोभा करंदलाजे

कर्नाटक में बीजेपी की दिग्गज नेता शोभा करंदलाजे (Shobha Karandlaje) ने 1994 में राजनीति में कदम रखा था। शोभा करंदलाजे बहुत कम उम्र में आरआरएस से जुड़ गई थीं। 2004 में एमएलसी बनाया गया था। 2008 में उन्हें यशवंतपुर से विधायक बनाया गया। शोभा इसके बाद कई बार विधायक चुनी गईं। 2014 में बीजेपी से सांसद बनी और 2019 में एक बार फिर से लोक सभा चुनाव जीत कर संसद पहुंची। 

Read more articles on National News in Hindi 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here