बाबरी विध्वंस का फैसला सुनाने के बाद जज ने खुद को किया रिटायर

0
218
Babri demolition Case
28 साल बाद बाबरी विध्वंस पर फैसला सुना दिया गया है। इस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया हैं।

New Delhi: विशेष अदालत में 28 साल बाद बाबरी विध्वंस (Babri demolition Case) पर फैसला सुना दिया गया है। इस फैसले में सुप्रीम कोर्ट ने सभी आरोपियों को बरी कर दिया हैं। खास बात यह है कि इस फैसले की सुनवाई करने वाला जज आज ही के दिन रिटाइयर हो गया है। सभी आरोपियों को बरी करने के बाद सुरेंद्र कुमार यादव आज शाम 5 बजे (Babri demolition Case) रिटाइयर हो गए थे। बता दें कि सुरेंद्र कुमार यादव का कार्यकाल पिछले साल ही पूरा हो गया था लेकिन बाबरी विध्वंस मामले पर सुनवाई करने की वजह से सुप्रीम कोर्ट ने उनके कार्यकाल को एक साळ तक के लिए बढ़ा दिया था। 

आडवाणी-जोशी समेत 32 लोगों पर फैसला आज

बता दें सुरेंद्र कुमार यादव का जन्म उत्तर प्रदेश के जौनपुर में हुआ था। लेकिन सुरेंद्र का अयोध्या से खास जुड़ाव रहा है। इनकी पहली पोस्टिंग अयोध्या में ही हुई थी। साथ ही आखिरी सुनवाई भी अयोध्या मामले पर हुई है। बाबर विध्वंस (Babri demolition Case) 1992 की घटना है। इसके दो साल के पहले ही 1990 में सुरेंद्र कुमार यादव ने अपनी सेवा देनी शुरु की थी। सुरेंद्र कुमार यादव अयोध्या में 1993 यानी 3 साल तक रहे। बता दें कि जिस दौरान कारसेवकों द्वारा बाबरी मस्जिद (Babri demolition Case) के विवादित ढांचे को ढहाया गया था, उस दौरान सुरेंद्र कुमार यादव बतौर मुनसिफ अयोध्या में ही न्यायिक सेवा दे रहे थे। और आज उसी जगह से सुरेंद्र कुमार यादव रिटाइयर हो गए। सुरेंद्र यादव के लिए यह बेहद ही खुशी की बात है कि उन्हे आयोध्या मामले को सुलझाने के लिए जज के तौर पर चुना था। 

बाबरी केस के सभी आरोपी बरी, 28 साल बाद हुआ फैसला

सेवा विस्तार और तबादला रोके जाने के अलावा बाबरी मामले (Babri demolition Case) में कोर्ट को भी अतिरिक्त वक्त दिया गया। मामले में सुनवाई कर रही कोर्ट को तीन बार टाइम दिया गया। सबसे पहले 19 अप्रैल 2017 को कोर्ट को 2 साल का अतिरिक्त वक्त दिया गया था। लेकिन जब 19 अप्रैल 2019 तक भी मामले में फैसला नही आया तो फिस से 9 महीने तक वक्त बढ़ा दिया गया था। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने 31 अगस्त 2020 तक फैसला सुनाने के निर्देश दिए, जब लगा कि ऐसा भी नहीं हो पाएगा तो सुप्रीम कोर्ट (Babri demolition Case) ने आखिरी बार 30 सितंबर 2020 तक फैसला सुनाने के आदेश दिए गए। जिसके बाद आज सुरेंद्र यादव ने फैसला सुना दिया। 


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here