अयोध्या विवाद पर फैसले से पहले प्रशासन का बड़ा कदम, पोस्टर और मैसेज पर लगाई रोक

अयोध्या की विवादित जमीन को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला कभी भी आ सकता है। 40 दिनों तक चली रोजना सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जो कभी भी सुनाया जा सकता है। इसके मद्देनजर अयोध्या के जिलाधिकारी ने सोशल मीडिया पर अयोध्या मामले को लेकर कोई भी पोस्ट शेयर करने पर रोक लगा दी है। यह रोक 28 दिसंबर तक लगाई गई है। 

0
949

नई दिल्ली: अयोध्या की विवादित जमीन को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला कभी भी आ सकता है। 40 दिनों तक चली रोजना सुनवाई के बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था, जो कभी भी सुनाया जा सकता है। इसके मद्देनजर अयोध्या के जिलाधिकारी ने सोशल मीडिया पर अयोध्या मामले को लेकर कोई भी पोस्ट शेयर करने पर रोक लगा दी है। यह रोक 28 दिसंबर तक लगाई गई है।

रिपोर्ट के मुताबिक अब कोई भी अयोध्या मामले को लेकर सोशल मीडिया पर कोई मैसेज या पोस्टर शेयर नहीं कर पाएगा। इस मामले पर अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने कहा कि मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए ये फैसला लिया गया है, ताकि सांप्रदायिक सौहार्द बना रहे।

ये भी पढ़ें- तीस हजारी कोर्ट विवाद का असर, कड़कड़डूमा कोर्ट में वकीलों ने पुलिसकर्मी को पीटा

बता दें कि अयोध्या की विवादित जमीन को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के आने से पहले अयोध्या प्रशासन ने नया सर्कुलर भी जारी किया है। इसके साथ ही जिले में अयोध्या मामले को लेकर किसी भी तरह के धार्मिक कमेंट पर नजर बनाए रखने के लिए एडवाइजरी जारी की है।

अयोध्या प्रशासन की ओर से सख्त तौर पर कहा गया है कि इस मामले को लेकर किसी भी तरह के कमेंट बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे। अगर कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया के किसी भी प्लेटफॉर्म पर इस मुद्दे को लेकर किसी भी तरह की आपत्तिजनक टिप्पणी करता है या कोई कमेंट करता है, तो उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here