असम बाढ़ की स्थिति बिगड़ी: 8 और मरे, 32 जिलों में 31 लाख से अधिक लोग प्रभावित

0
37
असम बाढ़ की स्थिति बिगड़ी 8 और मरे, 32 जिलों में 31 लाख से अधिक लोग प्रभावित
असम बाढ़ की स्थिति बिगड़ी 8 और मरे, 32 जिलों में 31 लाख से अधिक लोग प्रभावित

असम: बाढ़ से असम में कम से कम 63 लोगों की मौत हो गई है जबकि असम के 32 जिलों में 31 लाख लोग प्रभावित हैं। राज्य में अकेले शनिवार को आठ लोगों की मौत हुई है।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति का जायजा लेने के लिए मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा को फोन किया। मुख्यमंत्री ने कामरूप और दरांग जिलों में प्रभावित लोगों को आश्रय देने वाले कुछ राहत शिविरों का भी दौरा किया। राज्य के 28 जिलों में शुक्रवार को कुल 18.94 लाख लोग प्रभावित हुए। राज्य में बाढ़ और भूस्खलन की वर्तमान दूसरी लहर में मरने वालों की संख्या बढ़कर 63 हो गई है, क्योंकि बारपेटा और करीमगंज में दो-दो लोगों की मौत हुई है, जबकि दरांग, हैलाकांडी, नलबाड़ी और सोनितपुर जिलों में एक-एक की मौत हुई है।

होजई जिले में शुक्रवार रात एक नाव पलटने से तीन बच्चों समेत आठ लोगों के लापता

होजई जिले में शुक्रवार रात एक नाव पलटने से तीन बच्चों समेत आठ लोगों के लापता होने की खबर है। वे होजई, बजली, पश्चिम कार्बी आंगलोंग, कोकराझार और तामुलपुर जिलों से हैं। वहां कुल 21 लोगों को रेस्क्यू किया गया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य में बाढ़ की मौजूदा स्थिति के बारे में जानकारी लेने के लिए मुख्यमंत्री को फोन किया और उन्हें केंद्र की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया।सरमा ने राज्य भाजपा अध्यक्ष और स्थानीय विधायक भाबेश कलिता के साथ कामरूप जिले के रंगिया शहर का दौरा किया। उन्होंने फातिमा कॉन्वेंट स्कूल और कोलाजल में राहत शिविरों का भी दौरा किया जहां प्रभावित लोगों ने शरण ली है।

मीडियाकर्मियों से बात करते हुए

मीडियाकर्मियों से बात करते हुए, सरमा ने कहा कि जिला प्रशासन किसी भी आपात स्थिति का सामना करने और बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद के लिए तैयार है। ”प्रशासन को निर्देश दिया गया है कि वह राहत आपूर्ति सुनिश्चित करे और संवेदनशील इलाकों से लोगों को राहत शिविरों में ले जाए। सेना सहायता प्रदान करने के लिए तैयार है और उपायुक्तों को आवश्यकता पड़ने पर उनकी मदद लेने के लिए कहा गया है। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवान प्रभावित लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा रहे हैं।

सीएम ने राहत शिविरों में रह रहे लोगों को आश्वासन दिया

सीएम ने राहत शिविरों में रह रहे लोगों को आश्वासन दिया कि उनकी मदद के लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं. दारांग जिले में, सरमा बाढ़ के पानी से गुजरे और पथरूघाट और बोर अथियाबारी में टूटे हुए तटबंधों की जांच की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को पानी घटने के बाद इसकी मरम्मत करने के निर्देश दिए  सेना ने होजई, बक्सा, नलबाड़ी, बारपेटा, दरांग, तामूलपुर और कामरूप जिलों में बचाव और राहत कार्यों में सहायता के लिए 11 कॉलम तैनात किए हैं और अब तक 3000 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है।

केंद्रीय जल आयोग ने शनिवार को कहा

केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) के बुलेटिन ने शनिवार को कहा कि कोपिली नदी नागांव जिले में ‘उच्च बाढ़ स्तर’ से ऊपर बह रही है, जबकि अन्य नदियां जैसे ब्रह्मपुत्र, जिया-भराली, पुथिमारी, पगलाडिया, मानस, बेकी, बराक और कुशियारा अलग-अलग जगहों पर खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एएसडीएमए) की शनिवार की एक रिपोर्ट के अनुसार, 32 जिलों में 30.99 लाख की आबादी प्रभावित हुई है। आपदा से कुल 118 राजस्व मंडल और 4,291 गांव प्रभावित हुए हैं। बुलेटिन के अनुसार, बारपेटा, दरांग, गोलपारा, हैलाकांडी, कामरूप (एम), नलबाड़ी और उदलगुरी जिले भी शहरी बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित हुए हैं।

एएसडीएमए के अनुसार

एएसडीएमए के अनुसार, बाढ़ की मौजूदा लहर में कुल 66455.12 हेक्टेयर फसल क्षेत्र जलमग्न हो गया है, जबकि 441 जानवर बह गए हैं। दिन के दौरान कछार, दीमा-हसाओ, गोलपारा, हैलाकांडी, दक्षिण सलमारा और कामरूप (मेट्रो) जिलों से भूस्खलन की सूचना मिली।1.56 लाख से अधिक लोगों ने 514 राहत शिविरों में शरण ली है। अन्य प्रभावित आबादी को भी राहत सामग्री वितरित की गई जो ऐसे शिविरों में नहीं हैं। राज्य के विभिन्न हिस्सों से बुनियादी ढांचे को भी नुकसान होने की खबर है क्योंकि दिन में 216 सड़कें, पांच पुल और चार तटबंध क्षतिग्रस्त हो गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here