राज्यपाल से बोले सीएम अशोक गहलोत- कही जनता राजभवन ना घेर लें

अशोक गहलोत ने कहा कि वो विधानसभा शुरू करना चाहते हैं. पूरा देश-प्रदेश देखेगा, डिबेट होगी, और दूध का दूध पानी हो जाएगा. सीएम गहलोत ने कहा कि उनके पास स्पष्ट बहुमत है.

0
425
Ashok Gehlot

Delhi: हाईकोर्ट से पायलट (Sachin Pilot) खेमे को राहत मिलने के बाद राजस्थान (Rajasthan)  के सीएम अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) मीडिया से बातचीत में कहा किस हमने कल राज्यपाल से सत्र बुलाने की मांग की है लेकिन राज्यपाल की ओर से अभी तक कोई जवाब नहीं आया है. ऐसा लगता है कि उनके ऊपर कोई दबाव है. उन्होंने बताया, ‘मैंने फिर उनसे टेलीफोन पर बात की है कि आपका एक संवैधानिक पद है उसकी गरिमा है. कृपा करके अपना फैसला करें’.

राजस्थान हाईकोर्ट से पायलट खेमे को बड़ी राहत

अशोक गहलोत (Ashok Gehlot) ने कहा कि वो विधानसभा शुरू करना चाहते हैं. पूरा देश-प्रदेश देखेगा, डिबेट होगी, और दूध का दूध पानी हो जाएगा. सीएम गहलोत ने कहा कि उनके पास स्पष्ट बहुमत है. इसके साथ ही गहलोत ने कहा कि हमारे साथियों को बीजेपी की देखरेख में बंधक बनाए रखा गया है.राजस्थान में प्रदेश की जनता हमारे साथ है. इस समय कोरोना से जिंदगी बचाने की चुनौती है. हमने शानदार मैनेजमेंट किया है. पूरे देश में वाहवाही हो रही है. ऐसे माहौल में सरकार गिराने की साजिश हो रही है. बीजेपी लोकतंत्र को खतरे में डाल रही है, छापे डलवा रही है. ऐसा नंगा नाच कभी नहीं देखा है. उन्होंने कहा, ‘ राज्यपाल जी ने शपथ ली है उसी हिसाब से काम करें नहीं तो राजस्थान की जनता आपका राजभवन को घेरने न आ जाए फिर हम कुछ नहीं कर पाएंगे’.

Kanpur Kidnapping Case: दोस्तों ने ही अपहरण कर की हत्या, परिजनों ने कहा पुलिस है जिम्मेदार

आपको बता दें कि राजस्थान हाईकोर्ट ने फैसला दिया है कि 14 जुलाई को विधानसभा अध्यक्ष की ओर से दिए गए नोटिस पर यथास्थिति बनाए रखी जाए और अब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही कोई फैसला सुनाया जाएगा. लेकिन इस इस फैसले में विधानसभा स्पीकर को मिले दल-बदल कानून के तहत मिले किसी भी अधिकार को कम नहीं किया किया गया है. एक तरह से कहा जा सकता है कि जहां सचिन पायलट को थोड़ी राहत मिली है वहीं सीएम गहलोत के पास अब सचिन पर भारी पड़ने के लिए पूरी तरह से रास्ते खुले हुए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here