जानिए जेल से रिहा होने के बाद अर्नब ने किसको दी चुनौती

रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को एक हफ्ते तक जेल में रहने के बाद जमानत दे दी गई थी।

0
218
Arnab Goswami
अर्नब गोस्वामी को एक हफ्ते तक जेल में रहने के बाद जमानत दे दी गई थी। जिसके बाद से अर्नब न्यूज रुम पहुंच गए है।

Mumbai: रिपब्लिक टीवी के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी  (Arnab Goswami) को एक हफ्ते तक जेल में रहने के बाद जमानत दे दी गई थी। जिसके बाद से अर्नब न्यूज रुम पहुंच गए है। साथ ही अर्नब ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) पर जमकर हमला बोला। रिपब्लिक चैनल के कर्मचारियों के साथ मिलकर कहा कि सुन लो उद्धव ‘आप मुझे नहीं हरा पाए’। बीजेपी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडण्वीस (Devendra Fadnavis) ने भी आत्महत्या के लिए उकसाने को लेकर न्यायालय के फैसले को सही माना है और कहा है कि ‘महाविकास अघाडी सरकार को उसकी जगह दिखा दी गई है’। 

अर्नब को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा, आज होगी मामले की सुनवाई

रिहाई के बाद अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) ने कहा, “उस सरकार के द्वारा मेरी गैरकानूनी गिरफ्तारी कराई गई जो यह समझने को तैयार नहीं है कि वह स्वतंत्र मीडिया को पीछे नहीं धकेल सकती। अगर उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) को मेरी पत्रकारिता से कोई परेशानी है, तो उन्हें मुझे इंटरव्यू देना चाहिए। मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि वे मेरे साथ उन सभी मुद्दों पर बहस करें जिनसे मैं उनसे सहमति नहीं रखता।” 

बता दें विधानसभा में विपक्ष के नेता फडणवीस (Devendra Fadnavis) ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि राज्य सरकार ने अदालत की इजाजत लिए बिना बंद मामले को  खोल दिया और गोस्वामी (Arnab Goswami)के साथ ”सड़क के अपराधी” की तरह सुलूक किया। उन्होंने आरोप लगाया, सरकार ने प्रताड़ित किया और एक जेल से दूसरी जेल भेजती रही। यह सरकार निजी दुश्मनी की वजह से उनके पीछे पड़ी है।” 

अर्नब पर गिरी गाज, मुंबई पुलिस ने घर में घुसकर किया गिरफ्तार

इन्दिरा बनर्जी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि अगर राज्य सरकारें लोगों को निशाना बनाती हैं तो उन्हें इस बात का अहसास होना चाहिए कि नागरिकों की स्वतंत्रता की रक्षा के लिये उच्चतम न्यायालय है। शीर्ष अदालत ने अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) के साथ ही इस मामले में दो अन्य व्यक्तियों नीतीश सारदा और फिरोज मोहम्मद शेख को भी 50-50 हजार रुपए के निजी मुचलके पर रिहा करने का आदेश दिया। पीठ ने इन्हें यह निर्देश भी दिया कि वे साक्ष्यों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे और जांच में सहयोग जरुर करेंगे। 

देश से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें National News in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here