Corona Vaccine लगवाने के बाद भी 10 में से 9 लोग हुए Omicron संक्रमित, भारत में 358 मामले आए सामने

0
48

Omicron Cases Update: कोरोना वायरस (Corona Virus) के दूसरे वेरिएंट ओमिक्रोन (Omicron Variant) तेजी से फ़ैल रहा है। बता दें की देश में 183 ओमिक्रोन के मामले सामने आये है और अब 358 की संख्या में पहुंच गए है। बता दें की केंद्र द्वारा भारत में 183 ओमाइक्रोन मामलों के विश्लेषण किया गया है जिसमे ये पुष्टि हुई है की 10 व्यक्तियों का टेस्ट क्या गया जिसमे उन्हें दोनों डोज़ लगने के बाद भी ओमिक्रोन के शिकार हो रहे है।

केंद्र ने शुक्रवार को ओमिक्रोन मरीज़ों का विश्लेषण करने के बाद साझा करते हुए कहा की “केंद्र ने इस बात पर जोर दिया कि “केवल वैक्सीन महामारी को रोकने के लिए पर्याप्त नहीं है” और यह भी याद दिलाया की मास्क लगाने से और अपनी निगरानी करने से हम सब ओमिक्रोन की श्रंखला को तोड़ सकते है।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण द्वारा जारी किए गए विश्लेषण से पता चला है कि 27 प्रतिशत मामलों में विदेश यात्रा का इतिहास नहीं था। इससे यह भी पता चलता है कि 87 व्यक्तियों को पूरी तरह से टीका लगाया गया था (91 प्रतिशत) जिनमें से तीन को बूस्टर शॉट भी मिले थे और 183 व्यक्तियों में से केवल सात का टीकाकरण नहीं हुआ था जबकि दो को आंशिक रूप से टीका लगाया गया था। केंद्र ने यह भी बताया कि विश्लेषण करने वालों में से 73 के टीकाकरण की स्थिति ज्ञात नहीं थी और 16 टीकाकरण के लिए पात्र नहीं थे।

डेल्टा की तुलना में Omicron अत्यधिक संक्रामक

भारत के कोविड -19 टास्क फोर्स के प्रमुख, डॉ वी के पॉल ने चेतावनी दी कि डेल्टा की तुलना में ओमाइक्रोन के घरों में संचरण का अधिक जोखिम है। यह स्पष्ट है कि यह घरों में फैल रहा है क्योंकि डेल्टा की तुलना में ओमाइक्रोन संक्रामक है। वह एक व्यक्ति जो बाहर से संक्रमण लाता है, क्योंकि उसने बाहर मास्क नहीं पहना है, वह घर में दूसरों को संक्रमित करेगा। यह जोखिम ओमाइक्रोन में अधिक होता है। हमें इसे ध्यान में रखना चाहिए ।

वी के पॉल ने कहा की मानव संसाधन बहुत महत्वपूर्ण हैं। इंफ्रास्ट्रक्चर को चलाने के लिए आपको टीमों की जरूरत होती है। टीमों को बनाने और उन्हें प्रशिक्षित करने के लिए सरकार द्वारा एक बड़ा प्रयास किया गया है। यही बात निजी क्षेत्र पर भी लागू होती है। इसलिए, ओमिक्रॉन के मद्देनजर एक व्यापक तैयारी शुरू की गई है और शुरू की गई है।

ओमिक्रॉन पर गुरुवार की बैठक के दौरान, पॉल ने कहा, प्रधान मंत्री का पहला संदेश संभावित उछाल के खिलाफ जिला-स्तरीय बुनियादी ढांचे की तैयारी पर था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here