मै केवल ‘एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ ही नहीं एक्सीडेंटल फिनांस मिनिस्टर भी था : मनमोहन सिंह

0
92
कार्यक्रम में भाषण देते पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

वैसे तो हर कोई अपने बयानों के कारण सुर्खियां बटोरता है लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह हमेशा अपने चुप्पी की वजह से सुर्खियों में रहते है. लेकिन मंगलवार को आयोजित पुस्तक विमोचन के एक कार्यक्रम में बहुत ही बेबाकी से बोले. उन्होंने कहा कि मेरे ऊपर आरोप लगता था कि मैं मौन रहने वाला (साइलेंट) पीएम हूं, लेकिन ये किताब (चेंजिंग इंडिया) अपने आप में बहुत कुछ कहती है. इसके साथ ही बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी के एक बयान पर पलटवार किया. वहीं मौजूदा पीएम नरेंद्र मोदी से सीख लेने की भी सलाह दी है.

उन्‍होंने कहा कि मैं ऐसा पीएम था जो हर मामले पर बात करता था. किसी भी मुद्दे से घबराता नहीं था. विदेश से यात्रा के बाद मै हमेशा मीडिया से बात करता था. उन्होंने आगे कहा लोग मुझे ‘एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ कहते हैं, लेकिन मैं वित्त मंत्री भी अचानक ही बना था. पहले यह पद आइजी पटेल को ऑफर किया गया था, लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

मनमोहन सिंह ने कहा कि मुझे पीवी नरसिम्हा राव ने जब 1991 में वित्त मंत्री के रूप में नियुक्त किया, तब मैं ‘एक्सीडेंटल’ वित्त मंत्री बन गया. पीसी एलेक्जेंडर ने जब मुझे बताया कि पीएम राव मुझे वित्त मंत्री बनाना चाहते हैं, तो विश्वास ही नहीं हुआ था. जब मैं प्रधानमंत्री नियुक्त हुआ तब भी लोगों ने कहा कि मैं दुर्घटनावश प्रधानमंत्री बन गया, जबकि ऐसा नहीं था.

 

 

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here