ममता बनर्जी के मीम मामला: जेल से छूटने के बाद BJP कार्यकर्ता प्रियंका बोलीं- नहीं मांगूंगी माफी

0
159

नई दिल्ली: प्रियंका शर्मा को सोमवार को रिहा ना करने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में प्रियंका की गिरफ्तारी मनमानी है.पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी  का ‘आपत्तिजनक’ मीम सोशल मीडिया पर शेयर करने वाली भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा ने जेल से छूटने के बाद कहा कि वह माफी नहीं मांगेंगी. प्रियंका शर्मा ने कहा कि मुझे डराने का प्रयास किया गया लेकिन मैं नहीं डरी. अब डर की गुंजाइश नहीं. साथ ही प्रियंका शर्मा ने कहा कि मुझे किसी से बात नहीं करने दी. पार्टी और वकील से नहीं करने दी बात. प्रियंका ने कहा, ‘मैं माफी नहीं मांगूंगी, मैं केस लडूंगी.’ साथ ही कहा, ‘मुझे कल ही जमानत दे दी गई थी, लेकिन उसके 18 घंटे बाद भी मुझे रिहा नहीं किया गया. मुझे मेरे परिवार और वकील से मिलने नहीं दिया गया. उन्होंने मुझसे माफीनामा लिखवाया.

वहीं दूसरी ओर प्रियंका शर्मा को सोमवार को रिहा ना करने पर सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जाहिर की है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहली नजर में प्रियंका की गिरफ्तारी मनमानी है. अगर उसे रिहा नहीं किया गया तो अवमानना का मामला शुरू करेंगे. साथ ही कोर्ट ने कहा कि आधे घंटे में प्रियंका को रिहा किया जाए. हालांकि, सुप्रीम कोर्ट को बताया गया कि उसे सुबह 9.40 पर रिहा किया गया और वह रातभर जेल में रहीं.

भारतीय जनता युवा मोर्चा की कार्यकर्ता प्रियंका पिछले शुक्रवार से कोलकाता की जेल में बंद थी. 25 वर्षीय प्रियंका की ओर से उनके परिवार ने दर्ज FIR रद्द करने और जमानत पर रिहा करने की अर्ज़ी सुप्रीम कोर्ट में लगाई थी. सोशल मीडिया पर अपनी प्रोफाइल में प्रियंका ने खुद को हावड़ा जिला BJYM के क्लब सेल का संयोजक बताया है. प्रियंका ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर प्रियंका चोपड़ा-जोनास की तस्वीर पर ममता बनर्जी का चेहरा सुपर इम्पोज कर मजाकिया तस्वीर शेयर की थी. जिसके बाद हावडा पुलिस ने शिकायत के आधार पर FIR दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया था.

सुप्रीम कोर्ट ने वकील से कहा था कि क्या वो ममता बनर्जी से माफी मांगने को तैयार है? साथ ही कहा कि आप विपक्षी पार्टी से हैं और राज्य में चुनाव भी चल रहे हैं अगर माफी मांगते हैं तो जमानत मिल सकती है. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने प्रियंका की याचिका पर पश्चिम बंगाल सरकार  को नोटिस जारी किया, जिस पर छुट्टियों के बाद सुनवाई होगी. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि हम यह साफ करते हैं कि इस केस में तथ्यों के आधार पर ये फैसला दे रहे है. मेरिट पर सुनवाई बाद में होगी.  प्रियंका के वकील नीरज किशन कौल ने कहा कि क्रिमिनल लॉ में इस तरह माफी का कोई प्रावधान नहीं है. इस पर जस्टिस इंदिरा बनर्जी ने कहा कि हम भी ये कह रहे हैं कि आपराधिक मामला और माफी दोनों अलग हैं. आपका अभिव्यक्ति की आजादी का अधिकार वहां खत्म हो जाता है जहां दूसरे व्यक्ति के अधिकार शुरू होते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here