अब मोबाइल नंबर की तरह बदल पाएंगे सेट टॉप बॉक्स के कार्ड, मिलेगी नई सुविधा

नई दिल्ली: प्रसारण विनियामक ट्राई ने शुक्रवार को कहा कि वह टीवी सेटअप बॉक्स की पोर्टेबिलिटी को संभव करने के लिए सभी विकल्पों पर विचार कर रहा है। नियामक ने उम्मीद जतायी है कि उद्योग के साथ मिलकर वह इस इस साल के अंत तक इसका रास्ता निकाल लेगा। यह कदम महत्वपूर्ण है। अगर कोई ग्राहक अपना सेवा प्रदाता बदलना चाहता है तो उसे उस कंपनी का सेटअप बॉक्स खरीदने के लिए अच्छी खासी धन राशि खर्च करनी पड़ती है। इसके अलावा पुराना सेटअप बॉक्स अनुपयोगी हो जाता है और इलेक्ट्रॉनिक कचरा बन जाता है।

0
206
file photo

नई दिल्ली: प्रसारण विनियामक ट्राई ने शुक्रवार को कहा कि वह टीवी सेटअप बॉक्स की पोर्टेबिलिटी को संभव करने के लिए सभी विकल्पों पर विचार कर रहा है। नियामक ने उम्मीद जतायी है कि उद्योग के साथ मिलकर वह इस इस साल के अंत तक इसका रास्ता निकाल लेगा। यह कदम महत्वपूर्ण है।
अगर कोई ग्राहक अपना सेवा प्रदाता बदलना चाहता है तो उसे उस कंपनी का सेटअप बॉक्स खरीदने के लिए अच्छी खासी धन राशि खर्च करनी पड़ती है। इसके अलावा पुराना सेटअप बॉक्स अनुपयोगी हो जाता है और इलेक्ट्रॉनिक कचरा बन जाता है।

ऐसा इसलिए कि सेट टाप बाक्स ग्राहक किसी टीवी डीटीएच सेवा प्रदाता की सेवा लेने के बाद कंपनी से बंध जाते हैं क्योंकि हर कंपनी का सेटअप बॉक्स अलग होता है। भारतीय दूरसंचार सेवा प्रदाता ने बयान जारी कर कहा है कि उसने सेटअप बॉक्स की पोर्टेबिलिटी को लागू करने के लिए विकल्प तलाशने के लक्ष्य से एक कार्यशाला का आयोजन किया था।

अभी तक अपने केबल ऑपरेटरों और डीटीएच कंपनी से परेशान होने के बाद भी लोगों को उन्हें बदलने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता रहा है। लेकिन अब लंबे समय तक ऐसा नहीं होने वाला। ऐसा इसलिए क्योंकि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) एक नई व्यवस्था लेकर आ रहा है। ये सुविधा साल के अंत तक मिल जाएगी

डीटीएच एवं केबल सेवाओं में चैनल के हिसाब से भुगतान की नयी प्रणाली के बारे में विनियामक ने कहा कि इससे बाजार में उपलब्ध बेहतर विकल्प को चुनने में मदद मिलेगी। ट्राई ने कहा कि बाजार को अधिक खुला और प्रतिस्पर्धी बनाने एवं ग्राहकों को अधिक विकल्प उपलब्ध कराने की दिशा में सेटअप बॉक्स की पोर्टेबिलिटी का मुद्दा काफी अहम है।
इस व्यवस्था के तहत सेट टॉप बॉक्स में भी अपनी मर्जी की कंपनी का कार्ड लगाया जा सकेगा। अपने मौजूदा ऑपरेटरों से जो लाखों लोग परेशान हैं, वह अपनी मर्जी का ऑपरेटर चुन सकेंगे। ट्राइ के चेयरमैन आर. एस. शर्मा का कहना है कि ट्राई अब इंटर-ऑपरेबल सेट टॉप बॉक्स की व्यवस्था करेगा।
दूसरी ओर ट्राई के इस कदम का डीटीएच ऑपरेटर्स और केबल सर्विस वाले विरोध कर रहे हैं। जिससे ट्राई को भी मुश्किल हो सकती है। इस राह में आने वाली एक मुश्किल के बारे में कॉन्टेंट डिस्ट्रिब्यूशन इंडस्ट्री के अधिकारी ने बताया कि प्रत्येक सेट टॉप बॉक्स में अलग-अलग सॉफ्टवेयर और कॉन्फिगरेशन होते हैं, जिसके कारण उन्हें दूसरी कंपनी की सेवाओं के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।

बता दें कि इस साल की शुरुआत में ही ट्राई डीटीएच चैनल चयन के लिए नए नियम लेकर आई है। ट्राई के नए नियम के मुताबिक उपभोक्ताओं को सिर्फ उन चौनल के लिए भुगतान करना होगा, जो वह देखना चाहते हैं। ट्राई के नए नियम 1 मार्च से लागू हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here