Norovirus In Kerala: सावधान! कोरोना वायरस के बाद अब नोरोवायरस का मंडरा रहा खतरा, जानें क्या हैं लक्ष्ण

0
250
Norovirus in Kerala
Norovirus in Kerala

Norovirus In Kerala: पहले कोरोना, फिर ब्लैक फंगस उसके बाद ओमिक्रोन और अब नोरोवायरस। भारत पर लगातार वायरस के संकट मंडरा रहे हैं। इसी के बीच केरल में एक बार फिर से नोरोवायरस (Norovirus) के मामले सामने आ रहे हैं। आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जून महीने में केरल के विझिंजम में स्कूल जाने वाले 2 बच्चे नोरोवायरस के संक्रमित पाए गए हैं।

केरल की हेल्थ मिनिस्टर वीना जॉर्ज (Norovirus In Kerala) ने नोरोवायरस (Norovirus) को लेकर बताया कि दोनों संक्रमित बच्चों की वर्तमान स्थिति फिलहाल स्थिर है। उनके सैंपल लिए गए हैं और बाकि एहतियात बरते जा रहे हैं।

अब ये नोरोवायरस क्या है?

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के मुताबिक नोरोवायरस संक्रामक संक्रमण है। उनके मुताबिक ये वायरस डायरिया, उल्टी, मतली और पेट दर्द की वजह बनता है। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने बताया है कि, “संक्रमित लोगों या दूषित सतह के संपर्क में आने से ये आसानी से फैल सकता है लेकिन संक्रमित लोगों में से मात्र कुछ ही दूसरे शख्स को बीमार कर सकते हैं।”

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने उसे ‘विंटर वोमिटिंग बग’ बताया है और आम तौर से सर्दी के महीनों में हमला करता है। पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने बताया कि अधिकतर संक्रमण की वजह बीमार लोगों के संपर्क या दूषित सतह या दूषित फूड या ड्रिंक के सेवन से होता है। नोरोवायरस (Norovirus) आम तौर से कुछ दिनों में खत्म हो जाता है। लोग संक्रमण होने के 1-3 दिनों के अंदर ठीक हो जाते हैं।

क्या हैं लक्ष्ण?

CDC ने नोरोवायरस (Norovirus) के लक्ष्ण बारे में बताया कि डायरिया, उल्टी, मतली, पेट दर्द, बुखार, सिर दर्द और बदन दर्द शामिल हैं। कुछ मामलों में, वायरस पेट या आंतों के गंभीर सूजन का कारण बन सकता है।

नोरोनायरस से सावधानी

वायरस को रोकने के लिए स्वाच्छता का पालन करें। पानी और साबुन से नियमित रूप से हाथों की सफाई करें। अल्कोहल युक्त सैनेटाइजर से नोरोवायरस नहीं मरते इसिलिए साबुन और पानी की सलाह दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here