अब फोटो इम्यूनोथैरेपी से खत्म किए जाएंगे कैंसर सेल्स, कैंसर के इलाज की नई तकनीक

0
29

आप सभी जानते हैं कि कैंसर (Cancer) एक जानलेवा बीमारी है। इसका इलाज बेहद ही मुश्किल है जब तक हमें पता लग पाता देर हो चुकी होती है। कैंसर के मरीजों के लिए वैज्ञानिकों ने नया ट्रीटमेंट ईजाद करने का दावा किया है। उन्होंने कैंसर के लिए फोटो इम्यूनोथैरेपी (Photo Immunotherapy) में सफलता हासिल कर ली है। आपको बता दें कि ये सर्जरी, कीमोथैरेपी, रेडियोथैरेपी और इम्यूनोथैरेपी के बाद कैंसर का इलाज करने वाली 5वीं थैरेपी होगी। इस नए इलाज में पुराने इलाज से बचे छोटे-छोटे सेल्स को भी ख़तम किया जा सकेगा।

इस थैरेपी का सफलतापूर्वक प्रयोग लंदन के कैंसर रिसर्च इंस्टीट्यूट में चूहों के ऊपर किया गया। जो चूहे ट्रायल ग्लियोब्लास्टोमा कैंसर से पीड़ित थे ये प्रयोग उन्ही पर किया गया।

नया ट्रीटमेंट इम्यून सिस्टम भी मजबूत होगा

ग्लियोब्लास्टोमा ब्रेन कैंसर (Cancer) में सबसे कॉमन कैंसर है। फोटो इम्यूनोथैरेपी (Photo Immunotherapy) में दिमाग में बहुत छोटे कैंसर सेल्स भी आसानी से नजर आते हैं। डॉक्टरों ने उन्हें आसानी से निकाल लिया और जो नहीं निकल सके, वह भी इलाज के कुछ देर बाद खुद ही खत्म हो गए। ऐसा दावा किया जा रहा है कि इस ट्रीटमेंट के बाद भी मरीज का इम्यून सिस्टम मजबूत होगा। मरीज में दोबारा ग्लियोब्लास्टोमा के लक्षण दिखते ही उन्हें रोका जा सकता है।

हों के बाद ह्यूमन ट्रायल होगा शुरू

रिसर्च में शामिल डॉ. गैब्रिएला क्रेमर-मरेकी ने कहा कि कैंसर (Cancer) का इस तरह का ट्रीटमेंट खतरनाक है। दिमाग में ट्यूमर होने के कारण ये ट्रीटमेंट और ज्यादा चुनौतीपूर्ण बन जाता है। ऐसे में ट्यूमर सेल्स का पता लगाने की तकनीक मिलना अपने आप में एक इतिहास है। चूहों के बाद ग्लियोब्लास्टोमा पीड़ित इंसानों पर भी वैज्ञानिकों द्वारा प्रयोग किया जा सकता है। यदि ये परिक्षण सफल हुआ तो बाकी कैंसर के रूपों पर भी परिक्षण किया जाएगा। वैज्ञानिक अब न्यूरोब्लास्टोमा कैंसर के ट्रीटमेंट पर भी रिसर्च कर रहे हैं।

लंबे समय तक जियेंगे मरीज़

वैज्ञानिकों का कहना है कि थैरेपी में कैंसर (Cancer) के छोटे सेल्स अंधेरे में तेजी से दिखाई देंगे। डॉक्टर उन्हें देख कर आसानी से बाहर निकाल सकेंगे। वहीं एक्सपर्ट्स का कहना है कि अब तक जो थैरेपी थीं, उनमें कैंसर सेल्स बॉडी में ही रह जाते थे। इससे मरीज के कम समय में मरने का खतरा रहता था, लेकिन फोटो इम्यूनोथैरेपी (Photo Immunotherapy) की मदद से मरीज लंबे समय तक जी सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here