इंटरनेट स्पीड में ‘जियो गीगा फाइबर’ फिसड्डी, ये छोटी कंपनियां दे रही हैं हाई स्पीड…

इंटरनेट यूजर्स के बीच हाई स्पीड इंटरनेट की मांग को देखते हुए तमाम कंपनियों ने प्रीपेड से लेकर ब्रॉडबैंड तक के प्लान्स मार्केट में उतारे हैं।

0
676
इंटरनेट स्पीड..

इंटरनेट यूजर्स के बीच हाई स्पीड इंटरनेट की मांग को देखते हुए तमाम कंपनियों ने प्रीपेड से लेकर ब्रॉडबैंड तक के प्लान्स मार्केट में उतारे हैं। हाल ही में वीडियो स्ट्रीमिंग साइट ‘नेटफ्लिक्स’ ने डाटा जारी किया है, नेटफिल्क्स द्वारा जारी डाटा के अनुसार,  रिलायंस जियो गीगा फाइबर की इंटरनेट स्पीड दूसरी कंपनियों की अपेक्षा बहुत कम रही है।

क्या है नेटफिलक्स ?

गौरतलब है कि नेटफ्लिक्स प्रीमियम वीडियो कंटेंट देने के साथ सभी ब्रॉडबैंड कंपनियों की इंटरनेट स्पीड को मॉनिटर करता है। इस डाटा को नेटफिलक्स आईएसपी इंडेक्स के द्वारा तैयार किया गया है। जियो ने गीगाफाइबर सेवा को सितंबर में पेश किया था। साथ ही कंपनी ने उपभोक्ताओं को इन प्लान्स में 100 एमबीपीएस की स्पीड भी ऑफर की थी।

नेटफिलक्स की रिपोर्ट…

जानकारी के अनुसार, अक्टूबर में जियो की स्पीड कम हुई थी। इससे पहले भी रिलायंस जियो गीगाफाइबर की इंटरनेट स्पीड में कमी आई थी। नेटफिलक्स की रिपोर्ट में 7 स्टार डिजिटल इंटरनेट ब्रॉडबैंड कंपनी ने पहला स्थान प्राप्त किया है। इस कंपनी की औसतन स्पीड 3.74 एमबीपीएस रही है।

स्पेक्ट्रा ब्रॉडबैंड कंपनी –

रिपोर्ट के मुताबिक, स्पेक्ट्रा ब्रॉडबैंड कंपनी ने हाई इंटरनेट स्पीड की लिस्ट में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। मालूम हो कि दिल्ली और कई चुनिंदा शहरों के यूजर्स इस कंपनी की सेवाओं का प्रयोग करते हैं। कंपनी की स्पीड में काफी सुधार भी देखने को मिला है।

एयरटेल एक्सट्रीम कंपनी –

एयरटेल एक्सट्रीम ने 3.64 एमबीपीएस की स्पीड के साथ तीसरे स्थान पर है। एक्ट फाइबरनेट कंपनी पांचवें स्थान पर काबिज है। लिहाजा, दिग्गज कंपनियों के मुकाबले छोटी कंपनियां देश के लोगों को हाई स्पीड इंटरनेट स्पीड ऑफर कर रही हैं।

जियो गीगाफाइबर के प्लान्स-

गौरतलब है कि जियो गीगाफाइबर के प्लान की शुरुआती कीमत 700 रुपये है और सबसे महंगा प्लान 10 हजार रुपये का है। 700 रुपये वाले प्लान में ग्राहकों को 100 एमबीपीएस की स्पीड मिलेगी, जबकि, प्रीमियम प्लान के साथ यह 1 जीबीपीएस हो जाएगी।

इंस्टॉलेशन चार्ज: जियो गीगाफाइबर के इंस्टॉलेशन के लिए ग्राहकों को 4,500 रुपये सिक्योरिटी डिपॉजिट के तौर पर देने होंगे, जो कि बाद में डिवाइस वापस करने पर वापस कर दिए जाएंगे। हालांकि, टेस्टिंग के दौरान कई लोगों से 2,500 रुपये भी लिए गए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here