कांग्रेस नेता Shashi Tharoor सोशल मीडिया पर हुए ट्रोल, मिस यूनिवर्स से की मुलाकात

0
129
Shashi Tharoor
कांग्रेस नेता शशि थरूर सोशल मीडिया पर छाने लगे है। उनके चर्चाओं आने की वजह मिस यूनिवर्स चुनी गईं हरनाज संधू हैं।

इन दिनों कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) सोशल मीडिया पर छाने लगे है। उनके चर्चाओं आने की वजह मिस यूनिवर्स चुनी गईं हरनाज संधू हैं। बता दें हरनाज ने कुछ तस्वीरें ट्वीटर पर शेयर की थीं। इन तस्वीरों में नजर आ रहा है कि शशि थरूर, हरनाज संधू के साथ खड़े हैं। वे मुलाकात में उतनी ही आकर्षक लगीं, जितनी वे मंच पर थीं।’ यकीनन, भारत उनका स्वागत करते हुए गर्व महसूस कर रहा है।

क्यों ट्रोल हुए शशि थरूर

शशि थरूर (Shashi Tharoor) ने ट्वीट करते हुए कहा कि मिस यूनिवर्स हरनाज संधू को विजयी होकर भारत लौटने पर बधाई देते हुए खुशी हुई। वे नए साल की छुट्टियों के लिए भारत वापस आने से काफी उत्साहित हैं। यकीनन, भारत उनका स्वागत करते हुए गर्व महसूस कर रहा है। वे मुलाकात में उतनी ही आकर्षक लगीं, जितनी वे मंच पर थीं।’ हरनाज को जीत की बधाई देते ही सोशल मीडिया पर यूजर्स ने थरूर को ट्रोल किया।

एक यूजर ने तो यहां तक कह दिया कि मैथमेटिशियन नीना गुप्ता को Ramanujan Prize मिला है उन्हें भी बधाई दी जाए, तभी को थरूर को ठरकी कहा जाता है! 

दूसरे यूजर ने कहा कि ‘ये जो हल्का-हल्का सुरूर है…वो तो शशि थरूर है। 

75 से ज्यादा देशों से आई खूबसूरत और प्रतिभाशाली महिलाओं को किया पीछे

पंजाब की हरनाज संधू (Harnaaz Sandhu) ने 75 से ज्यादा देशों से आई खूबसूरत और प्रतिभाशाली महिलाओं को पछाड़ते हुए मिस यूनिवर्स का ताज अपने नाम किया था। हरनाज ने टॉप 3 में मिस साउथ अफ्रीका और मिस पराग्वे को मात देते हुए सुंदरी के खिताब को जीता है।

कौन है मिस यूनिवर्स हरनाज कौर?

21 साल की उम्र में मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम करने वाली हरनाज कौर चंडीगढ़ के एक सिख परिवार की है। उन्होंने बचपन से ही अपनी फिटनेस का खास ख्याल रखा है साथ ही वे अपने फैशन को लेकर भी काफी गंभीर थीं। उन्होंने कई ब्यूटी इवेंट्स में भाग भी लिया था। 

हरनाज अपने नाम कर चुकी हैं ये खिताब

  • 2017 में टाइम्स फ्रेश फेस मिस चंडीगढ़
  • 2018 में मिस मैक्स इमर्जिंग स्टार
  • 2019 में फेमिना मिस इंडिया पंजाब
  • 2021 में मिस यूनिवर्स इंडिया

भारत को कितनी बार मिली सफलता ?

मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भारत ने 2 बार सफलता मिली है। हरनाज संधू भारत की तीसरी नंबर पर आती है। साल 1994 में सुष्मिता सेन (Sushmita Sen) ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था, उन्होंने पहला ताज हासिल किया था। वहीं, साल 2000 में लारा दत्ता (Lara Dutta) ने इस ताज को अपने नाम किया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here