Janmashtami 2020: इन Guidelines का पालन करते हुए कृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार मनाया जाएगा

देश में 11 से 12 अगस्त तक कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व बड़े धूमधाम से मनाया जाएगा। वायरस के चलते मंदिरों में आम लोगों को जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी।

0
355
Janmashtami Guidelines 2020
Janmashtami 2020: इन Guidelines का पालन करते हुए कृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार मनाया जाएगा

New Delhi: कोरोना वायरस महामारी के चलते इस साल देश में त्यौहार भी गाइडलाइन का पालन करते हुए मनाए जा रहे है। राखी के बाद अब जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जा रहा है। 11-12 अगस्त को जन्माष्टमी मनाई जाएगी। कोरोना वायरस (Janmashtami Guidelines 2020) प्रकोप के मद्देनजर एहतियात के तौर पर, राष्ट्रीय राजधानी में इस्कॉन मंदिर (Iskon Temple) में 12 अगस्त को जन्माष्टमी के दिन आम लोगों को जाने की अनुमति नहीं होगी।

जानकारी के अनुसार दिल्ली के उपाध्यक्ष व्रजेन्द्र नंदन दास ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया, “इस वर्ष COVID-19 के कारण भव्यता कम हो गई है। (Janmashtami Guidelines 2020) प्रवेश सीमित निमंत्रण के आधार पर होगा। हम सभी भक्तों से निवेदन करते हैं कि वे हमारे साथ वर्चुअल जुड़े रहें।’ वहीं इस्कॉन मंदिर में रहने वाले अधिकतम 50 लोगों ही दर्शन करने की अनुमती होगी। इसके अलावा मंदिर के अधिकारियों ने परिसर के अंदर भोजन नहीं परोसने का फैसला किया है, बल्कि वे भक्तों को पैक भोजन प्रदान करेंगे।

इस दिन मनाया जाएगा जन्माष्टमी का पर्व, जानें पूजा का शुभ मुहूर्त

इस साल मथूरा में हर साल के तरह ही तैयारियां की गई हैं, लेकिन मंदिरों में आम लोगों को जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। बाकी सभी विधियां पहले की ही तरह की जाएंगी। लोंगो के लिए प्रतिबंध 10 अगस्त से 13 अगस्त तक के लिए लगाया गया है। महामारी संबंधी आवश्यकताओं के बाद, मंदिर के प्रवेश द्वार पर थर्मल स्कैनिंग का आयोजन किया जाएगा और साथ ही साथ हैंड सैनिटाइजर भी उपलब्ध होंगे। इस बार मंदिर के अंदर सिर्फ खास और चुनिंदा लोगों को ही जाने की अनुमति है।

इस बार ऑनलाइन भी लोग भगवान के दर्शन कर सकेंगे। मथूरा, वृंदावन के अलावा इस्कॉन मंदिर से भी कृष्ण भगवान के जन्म का लाइव प्रसारण किया जाएगा। वहीं सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर जन्मोत्सव की तस्वीरें भी शेयर की जाएंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here