पेंशनधारकों से हो रही ठगी, अगर आपके साथ हो ऐसा तो साइबर क्राइम को दे जानकारी

पेंशनधारकों को जीवन प्रमाणपत्र जमा करने का फायदा दिया था। इसका फायदा साइबर ठग Cyber Crime Cell उठा रहे है।

0
383
Cyber Crime Cell
पेंशनधारकों को जीवन प्रमाणपत्र जमा करने का फायदा दिया था। इसका फायदा साइबर ठग Cyber Crime Cell उठा रहे है।

Crime: कोरोना महामारी को देखते हुए बैंकों ने पेंशनधारकों को जीवन प्रमाणपत्र जमा करने का फायदा दिया था। लेकिन बैंक ऐसा नहीं कर पा रहा और इसका फायदा साइबर (Cyber Crime Cell) ठग उठा रहे है। एसीपी साइबर क्राइम सेल विवेक रंजन राय के अनुसार जालसाजों के पास अलग-अलग विभागों से रिटायर कर्मचारियों का डाटा है। जिसकी वजह से उनके पास नंबर होता तो वो कॉल करके ठगी कर लेते है। 

कौन है अंशु दीक्षित, मुकीम काला और मेराजुद्दीन? पढ़े चित्रकूट जेल की कहानी

फोन पर मौजूद व्यक्ति के सही जानकारी देने पर पेंशनधारक ठग (Cyber Crime Cell) को पेंशन निदेशालय का कर्मी समझ कर विश्वास कर लेते हैं। इसके बाद ठग जीवन प्रमाण पत्र जमा नहीं होने की वजह से पेंशन रोके जाने की बात कहते हैं। ये सुनते ही पेंशनधारक के हालात खराब हो जाते है। 

अंडरवर्ल्‍ड डॉन छोटा राजन की मौत की खबर अफवाह, AIIMS ने जारी किया बयान

आपको बता दे इस तरह की ठगी पेंशन धारक को मोबाइल पर SMS भेजते है। जिसके बाद ओटीपी आता है। । पेंशन निदेशालय कर्मी बन फोन करने वाला व्यक्ति पेंशन धारक से ओटीपी बताने के लिए कहता है। और पैसे ट्रांसफर कर लेता है। धारकों को ऑनलाइन प्रमाण पत्र जमा करने के लिए विभाग की तरफ से कोई फोन नहीं किया जाता है। ऐसे में अगर किसी व्यक्ति के पास जीवन प्रमाण पत्र अपडेट करने का फोन आता है। तो साइबर क्राइम सेल (Cyber Crime Cell) को जानकारी लेकर ही ये काम करें। 

क्राइम से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Crime News in Hindi


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें। सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें, Twitter पर फॉलो करें और Android App डाउनलोड करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here