धनतेरस पर खरीदना चाहते हैं सस्ता गोल्ड तो जानिए कौन सी स्कीम है फायदेमंद

धनतेरस और दिवाली के मौके पर अगर आप कम दाम में सोना खरीदना चाहते है तो आपके पास आज सुनहरा मौका है।

0
164
Sovereign Gold Bond Scheme
धनतेरस और दिवाली के मौके पर अगर आप कम दाम में सोना खरीदना चाहते है तो आपके पास आज सुनहरा मौका है।

New Delhi: धनतेरस और दिवाली के मौके पर अगर आप कम दाम में सोना खरीदना चाहते है तो ज्यादा मत सोचिए, आपके पास आज सुनहरा मौका है। केंद्र सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम (Sovereign Gold Bond Scheme) की आठवीं सीरीज निकाली है और इसे लेने का आज आखिरी दिन है। बता दें ये सीरीज 9 नवंबर को शुरु की गई थी। इस बॉन्ड के तहत (Sovereign Gold Bond Scheme) आपको बाजार की रेट से कम दाम में सोना मिल जाएगा।  

दिवाली पर बैंक कर्मचारियों को मिला गिफ्ट, हुआ ये बड़ा ऐलान

इस स्कीम के तहत एक वित्त वर्ष में अधिकतम 4 किलो तक गोल्ड बॉन्ड (Sovereign Gold Bond Scheme) खरीदा जा सकता है। अगर आप सॉवरेज गोल्ड बॉन्ड में निवेश करना चाहते हैं तो आपके पास PAN होना बेहद जरूरी है। इसे आप सभी कमर्शियल बैंक, छोटे फाइनेंस बैंक, पेमेंट बैंक के अलावा, डाकघर, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (SHCIL),नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE),बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE)या सीधे एजेंट्स के जरिए खरीद सकते हैं।

आठवीं सीरीज में सरकार ने 1 ग्राम सोने की कीमत 5,177 रुपये तय की है, अगर आप ऑनलाइन सब्सक्रिप्शन खरीदते हैं तो प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट भी मिलेगी। यानि 5127 रुपये प्रति ग्राम पर (Gold Bond Certificate) मिलेगा। इससे पहले गोल्ड बॉन्ड की 7वीं सीरीज में सोने की कीमत 5,051 प्रति ग्राम थी। इस स्कीम के तहत आप कम से कम 1 ग्राम सोना खरीद सकते हैं। सरकार ने फिजिकल गोल्ड की मांग को कम करने के मकसद से नवंबर, 2015 में सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम की शुरुआत की थी। 

धनतेरस से पहले सोने के भाव में जबरदस्त गिरावट, जानें रेट

क्या होता है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड-
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेशक को फिजिकली सोना नहीं मिलता। यह फिजिकल गोल्ड की तुलना में ज्यादा सुरक्षित है। इसमें निवेश करने वालों को गोल्‍ड बॉन्‍ड सर्टिफिकेट दिया जाता है। मैच्योरिटी के पूरा होने के बाद जब निवेशक इसका भुगतान करने जाते है तो उसे उस वक्त के गोल्ड वैल्यू (Gold Bond Certificate) के बराबर पैसा मिलता है। इसका रेट पिछले तीन दिनों के औसत क्‍लोजिंग प्राइस पर तय होता है। बॉन्‍ड की अवधि में पहले से तय दर से निवेशक को ब्‍याज का भुगतान किया जाता है। 

बिजनेस से जुड़ी अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें Business News


देश और दुनिया से जुड़ी Hindi News की ताज़ा खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें. Youtube Channel यहाँ सब्सक्राइब करें और देखें हमारा एक्सक्लूसिव वीडियो कंटेंट. सोशल से जुड़ने के लिए हमारा Facebook Page लाइक करें और Twitter पर फॉलो करें.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here