मकर संक्रांति के दिन न करें ये गलतियां,सूर्यदेव हो जायेंगे नाराज़

मकर संक्रांति के दिन न करें ये गलतियां

0
452

हर साल मकर संक्रांति का त्योहार 14 या 15 जनवरी को मनाया जाता है. इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी रविवार को मनाया जायेगा। हिन्दू मान्यता के अनुसार मकर संक्रांति का बहुत महत्त्व है. कहते हैं जब सूर्य देव धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करते हैं, तब मकर संक्रांति का त्योहार मनाया जाता है. इस दिन सुबह उठकर स्नान करके भगवान सूर्य की आराधना की जाती है.पंडितों और गरीबों को दान दिया जाता है. यानी मकर संक्रांति के दिन दान विशेष का महत्त्व है. साथ ही, इसे खिचड़ी भी कहा जाता है.इस दिन प्रसाद के रूप में खिचड़ी का भी वितरण किया जाता है.मकर की शुरुआत के साथ ही शुभ कार्यों का आगाज़ हो जाता है.

   भूलकर भी न करें ये गलतियां

1.मकर संक्रांति के दिन सुबह उठकर भूलकर भी बासी खाना का सेवन न करें,क्यूंकि इससे नकारात्मक शक्तियां हावी होती हैं.जिसके कारण दोष लग सकता है. स्नान के बाद दान करना और फिर प्रसाद के रूप में खिचड़ी ग्रहण करना चाहिए. और साथ ही तिल का भी सेवन करना चाहिए। जो की शुभ माना जाता है.

2. मकर संक्रांति के दिन किसी भी तरह के नशे से दूर रहना चाहिए, इस दिन शराब, सिगरेट, और गुटके का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए.क्यूंकि इसका सेवन करने से आपके मन और शरीर की शुद्धता खत्म मानी जाती है.

3. इस पर्व के दिन किसी भी गरीब इंसान को अपमानित करने और उनके ऊपर हाथ उठाने से बचना चाहिए। साथ ही किसी भी भिखारी या ज़रूरतमंद को खाली हाथ नहीं लौटाना चाहिए. उन्हें दान और मदद के रूप में कुछ न कुछ देना चाहिए.

4.मकर संक्रांति के दिन बिना स्नान किए अन्न नहीं ग्रहण करना चाहिए. मकर संक्रांति के दिन स्नान-दान का खास महत्व है. दान विशेष कभी बेहद महत्त्व है.

5. मकर संक्रांति के दिन किसी भी वृक्ष या पौधे को नहीं काटना चाहिए. क्यूंकि इसे प्रकृति के जश्न का पर्व कहा जाता है.

मकर संक्रांति पर करें ये काम

1.मकर संक्रांति के दिन दान देना काफी शुभ माना जाता है इस दिन तिल-गुड़ और खिचड़ी का दान करना अच्छा होता है.

2. मकर संक्रांति के दिन सुबह उठकर स्नान करना चाहिए और भगवन सूर्य देव की उपासना करनी चाहिए.

3.मकर संक्रांति के दिन सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पूजा-पाठ करें.और सूर्य देव से प्रार्थना करनी चाहिए.

4. मकर संक्रांति के दिन गंगा स्नान बेहद महत्वदाई है, इस दिन घर में भी स्नान करके गंगा जल से छिड़काव करना चाहिए.

5. मकर संक्रांति को खिचड़ी भी कहा जाता है. तो इस दिन गरीबों और पंडितों को खिचड़ी का भोग प्रदान करना चाहिए. मकर संक्रांति की शुरुआत 14 जनवरी 2023 को रात 08 बजकर 43 मिनट पर होगी लेकिन उदयातिथि के अनुसार, इस बार मकर संक्रांति 15 जनवरी 2023 को ही मनाई जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here