Jaipur News: आखिर जयपुर को क्यों कहा जाता है गुलाबी शहर ? जाने पिंक सिटी के नाम का असली सच

0
76

Jaipur News: आप सब जानते होंगे कि जयपुर को पिंक सिटी (Pink City Jaipur) यानी कि गुलाबी शहर के नाम से जाना जाता है। कभी न कभी आपके ख्याल में ये भी जरूर आया होगा कि जयपुर को इस नाम से क्यों जाना जाता है तो चलिए जानते है गुलाबी शहर के नाम की कहानीके बारे में कुछ दिलच्स्प बात जानते हैं।

ईस्ट संधि के बाद हुआ आधुनिकीकरण

दरअसल, जयपुर की स्थापना के 100 साल से भी अधिक समय के बाद इस शहर को गुलाबी नगर के जाना जाने लगा। इससे पहले इस शहर को सिर्फ जयपुर के नाम से जाना जाता था। उस समय इस शहर का रंग पीला और सफेद हुआ करता था। जयपुर ने 1818 में ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ संधि की थी इस दौरन जयपुर मे आधुनिकीकरण का दौर भी शुरू हो गया था।

1876 में हुआ गुलाबी रंग का प्रचलन

साल 1876 में महारानी एलिजाबेथ तथा प्रिंस अल्बर्ट को भारत का दौरा करना था। उस समय जयपुर के महाराजा सवाई राम सिंह द्वितीय, जो जयपुर के तत्कालीन शासक थे,ने अपने आतिथ्य में शाही अतिथि के सम्मान के लिए पूरे शहर को दुल्हन की तरह सजाया शहर की सड़कें साफ करवाकर उनके किनारे फूल-पत्तियां लगाई गई।

पूरे शहर को गुलाबी टेराकोटा से रंग दिया गया। तब से यहां की सभी इमारतें और घरों को गुलाबी रंग में रंगने का कानून सा बन गया। उसके बाद से यह शहर गुलाबी हो गया जो बाद में चलकर गुलाबी नगर के नाम से प्रसिद्ध हुआ। जयपुर के कुछ हिस्सों में तो आज भी इस कानून का पालन किया जा रहा है। ऐतिहासिक जानकारी के अनुसार, शहर गुलाबी से पहले सफेद रंग का था।

गुलाबी शहर नाम पड़ने के अन्य कारण

शहर के कई सारे अजूबे लाल बलुआ पत्थर से बने हैं। इसलिए, यह शायद एक इत्तेफाक हो कि जब महारानी तथाराजकुमार यहां आए, तो महाराजा ने यह सोचा होगा कि इस शहर को एक गुलाबी रंग देना चाहिए, जिससे शहर कि हर एक चीज बेहद आकर्षक लगे।

ऐतिहासिक गुलाबी इमारतें बढ़ाती हैं शोभा

हवा महल

आमेर का किला

जयगढ़ किला

जय महल

नाहरगढ़ किला

चंद्र महल

रामबाग पैलेस

जंतर मंतर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here