Jama Masjid: जामा मस्जिद में महिलाओं की एंट्री बैन, स्वाति मालीवाल ने कहा- ‘तालिबानी फैसला मंजूर नहीं’

0
57
Delhi Jama Masjid
Delhi Jama Masjid

Jama Masjid: दिल्ली की ऐतिहासिक जामा मस्जिद (Delhi Jama Masjid) इस समय चर्चा में है क्योंकि, मस्जिद एक फैसले को लेकर विवादों का सामना कर रही है। जानकारी के लिए बता दे कि मस्जिद में सभी जगहों पर एक नोटिस लगा है जिसमें महिलाओं की एंट्री को बैन कर दिया है।

नोटिस के बाद उपजा विवाद

नोटिस के चस्पा होने के बाद विवादों ने जन्म ले लिया। नोटिस पर दिल्ली महिला आयोग (Delhi Women Commission) की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल (Swati Maliwal) ने कड़ी आपत्ति जाहिर की और जोर देकर कहा कि भारत में इस तालिबानी फैसले को मान्यता नहीं दी जा सकती। अब जामा मस्जिद (PRO) अधिकारी की तरफ से इस विवाद पर सफाई दे दी गई है।

मस्जिद प्रशासन का जवाब

बता दे कि, जामा मस्जिद के (PRO) अधिकारी का कहना है कि महिलाओं की एंट्री पर रोक नहीं लगाई गई है। जब लड़कियां अकेले आती हैं, तब गलत काम होते हैं, वीडियो बनाए जाते हैं। परिवार या फिर शादी शुदा जोड़ों पर कोई रोक नहीं लगाई गई है। इसे मीटिंग प्वाइंट बनाया जाए, ये स्वीकार नहीं।

पहले जामा मस्जिद की (RWA) के जनरल सेक्रेटरी मोहम्मद सलमान का कहना था कि बोर्ड में कुछ गलती थी। इस मामले में हम शाही इमाम से बात करने वाले हैं। समय रहते उस गलती को ठीक कर लिया जाएगा। अब क्या गलती, क्या चूक हुई, इसे लेकर मोहम्मद सलमान की तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया। सिर्फ इतना कहा गया कि गलती सुधार ली जाएगी।

मस्जिद के पीआरओ (PRO) सबीउल्लाह ने कहा था कि जो अकेली लड़कियां आती हैं, यहां गलत हरकतें करती हैं, वीडियो बनाई जाती है, उस चीज को रोकने के लिए ये निर्णय लिया गया है। फैमिली के साथ आएं कोई पाबंदी नहीं है, लेकिन इसे मीटिंग प्वाइंट बनाना, पार्क समझ लेना, टिकटॉक वीडियो बनाना, डांस करना, किसी भी धर्मस्थल के लिए मुनासिब नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here