Chhath Puja 2022: छठ महापर्व को लेकर CM योगी ने ‘स्वच्छ व सुरक्षित छठ’ के संदेश के साथ अधिकारियों को दिए निर्देश

0
83

Chhath Puja 2022: दिवाली के बाद से छठ पूजा का आगाज हो जाता है। बता दें कि कल यानी 28 अक्टूबर को छठ पूजा का पहला नहाय-खाय का था। वहीं आज यानी 29 अक्टूबर को छठ महापर्व का दूसरा दिन यानी खरना की पूजा की जाती है। इसी के चलते उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यानाथ ने छठ महापर्व को लेकर की उच्चस्तरीय बैठक की। इस बैठक में सीएम योगी ने आमजन की व्यवस्थाओं को लेकर अधिकारियों को दिशा-निर्देश भी दिए है।

बता दें कि आने वाली 30 अक्टूबर और 31 अक्टूबर को लोकआस्था का महापर्व यानी छठ मनाया जाएगा। पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में छठ महापर्व की विशेष परंपरा है। इसी दौरान सीएम योगी ने कहा कि हमारा प्रयास होगा कि हर एक भक्त को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिल सके। ताकि छठ पर्व का आयोजन अच्छे से संपन्न हो। साथ ही सीएम योगी ने ‘स्वच्छ और सुरक्षित छठ’ को लेकर भी अधिकारियों को निर्देश दिए।

पूजा करते समय बरते सावधानी

मुख्यमंत्री योगी ने सावधानी को देखते हुए कहा कि छठ महापर्व में बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के सपरिवार भाग लेते हैं। ऐसे में घाटों पर स्वच्छता, प्रकाश, सुरक्षा, पार्किंग, मोबाइल, सौचालय के साथ लोगों की सारी सुविधाओं के प्रबंध किए जाएंगे। स्थानीय आवश्यकताओं का ध्यान रखते हुए सभी व्यवस्था होनी चाहिए। साथ ही छठ के अवसर पर सूर्य को अर्घ्य देने की परंपरा है। छठ के अवसर पर मुफ्त बिजली दी जाए।

CM ने ये सुविधा देने के दिए निर्देश

1. घाटों के पास छठ को लेकर स्वास्थ्य शिविर लगाए जाएंगे। डेंगू, बुखार और विभिन्न जल जनित बीमारियों की जांच की व्यवस्था होनी चाहिए। व्रतधारी महिलाएं ठंडे पानी में देर तक खड़ी रहती हैं इसलिए किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए प्राथमिक चिकित्सा का समुचित प्रबंध किया जाए।

2. जिस नदी और घाटों पर छठ पूजा की परंपरा है, वहां पानी की पर्याप्त उपलब्धता होनी चाहिए। आपात स्थिति के लिए NDRF की टीम तैनात होनी चाहिए।

3. सुरक्षा के दृष्टिगत पूजन स्थल पर पुरुष पुलिस और महिला पुलिस की उपस्थिति रहनी चाहिए। कुछ पुरुष पुलिस को सिविल वर्दी में भी तैनात किया जाना चाहिए।

4. हर स्थल जहां छठ पूजा का कार्यक्रम होगा, वहां जनता एड्रेस सिस्टम की व्यवस्था होनी चाहिए। कई बार ऐसा होता है कि कुछ छोटे बच्चे भरी भीड़ में अपने परिजनों से बिछड़ जाते हैं, उनकी मदद के लिए हेल्पडेस्क की स्थापना भी कराई जानी चाहिए।

5. पूजन के दौरान आतिशबाजी की परंपरा होती है, जहां सभी लोगों की आस्था को ध्यान में रखते हुए उनकी सुरक्षा करनी चाहिए।

6. हर एक भक्त छठ पर्व पर अपने परिजन के साथ मनाने में इच्छुक होता है। इसे देखते हुए पूर्वी उत्तर प्रदेश के जिलों में सभी लोगों को घर तक पहुंचाने के लिए अतिरिक्त बसों से छोड़ा जाए।

पूर्वांचल से पूर्वी UP तक चलेंगी अतिरिक्त बसें

छठ के मौके पर परिवहन निगम के एमडी ने जानकारी देते हुए कहा था कि पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मेरठ, गोरखपुर, आगरा, बरेली, अलीगढ़, दिल्ली से गोरखपुर, वाराणसी, बलिया तक के लिए बसें उपलब्ध रहेंगी। वहीं लखनऊ से लेकर पूर्वांचल तक 100 अतिरिक्त बसें चलाई जाएंगी। साथ ही उन्होंने कहा पूर्वांचल से लेकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश तक 2563 अतिरिक्त बसें चलेंगी। आपको बता दें कि गुरुवार को सभी क्षेत्रीय प्रबंधको को बस अड्डों पर यात्रियों की सुविधा देखते हुए पूरी तैयारियां करने के निर्देश दिए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here