Agra: अकबर के रईस का है ये ‘समोसा महल’, जानें भारत में कहां से आया ?

समोसे का नाम लेते ही हर किसी के मुंह में पानी आ जाता है। लेकिन क्या आपने समोसे का महल देखा है अगर नहीं ये देखें

0
145
Samosa Palace
समोसे का नाम लेते ही हर किसी के मुंह में पानी आ जाता है। लेकिन क्या आपने समोसे का महल देखा है अगर नहीं ये देखें

समोसे का नाम लेते ही हर किसी के मुंह में पानी आ जाता है। लेकिन क्या आपने समोसे का महल (Samosa Palace) देखा है अगर नहीं तो आज हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे है। मुगल राजधानी के फतेहपुर सीकरी में ऐसा समोसा है, जिसे कोई खा नहीं सकता। क्योंकि ये महज एक महल है।

ये महल देखने में कैसा दिखता है

ये महल तिकोने आकार में बना हुआ है। जिसके चलते इसका नाम समोसा महल हो गया। यानी इस महल का शेप समोसे जैसा दिखाई देता है। दरअसल, काफी लंबे वक्त से चलते इस महल के छज्जे, तोड़े, फर्श के पत्थर खराब हो गए है। जिसकी वजह से नए पत्थर लगाए जाएंगे। इसे बनाने के लिए 17लाख रूपये लगने वाले है।

समोसे महल का नाम रखना आसान नहीं था…

फतेहपुर (Samosa Palace) में स्मारकों के नामकरण पर सवाल उठते रहे हैं। फतेहपुर सीकरी में कई स्मारकों का नामकरण एएसआइ द्वारा गलत कर दिया गया है। लेकिन उन्हें जानकारी उपलब्ध नहीं कराई गई।

कहां से आया भारत में समोसा

ये समोसा (Samosa Palace) सबसे पहले ईरान से भारत आया था। समोसे का जिक्र फारसी इतिहासकार अबुल फजल बेहाकी ने 11वीं शताब्दी में किया था। इब्न-बतूता ने मुहम्मद बिन तुगलक और अबुल फजल ने अकबर के दरबार में पेश किए जाने वाले समोसे का जिक्र किया है। 16वीं शताब्दी में पुर्तगालियों के भारत में आलू लेकर आने के साथ समोसे में आलू भरा जाने लगा। 

Also Read: महिला 100 बार हुई रिजेक्ट फिर बनी 400 अरब की मालकिन, बताई सफलता की कहानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here