बदला लेने के लिए 22 किलोमीटर का सफर तय करके पहुंचा बंदर, पढ़े ऑटो चालक की कहानी उसी की जुबानी

कर्नाटक Karnataka के कोट्टिघेरा गांव में Bonnet Macaque प्रजाति का एक बंदर लोगों के लिए डरावना बन गया।

0
297
Karnataka Monkey News
कर्नाटक Karnataka के कोट्टिघेरा गांव में Bonnet Macaque प्रजाति का एक बंदर लोगों के लिए डरावना बन गया।

कर्नाटक से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आ रही है। कर्नाटक के कोट्टिघेरा गांव में (Karnataka Monkey News) प्रजाति का एक बंदर लोगों के लिए डरावना बन गया। जानकारी के मुताबिक, ये बंदर 5 साल का है और लोगों के फल, खाने की चीजें छिन रहा था। ऐसा बंदर हमेशा से करते आए है इसलिए लोगों ने ज़्यादा ध्यान नहीं गया। लेकिन जब स्कूल खुलने के बाद ये बंदर मोरारजी देसाई स्कूल के आस-पास घूमने-फिरने लगा। इस दौरान बच्चे बंदर से डर रहे थे।

क्या है पूरा मामला ?

किसी ने वन विभाग को सूचना दी कि शरारती बंदर को पकड़ कर ले (Karnataka Monkey News) जाएं। उसी वक्त बंदर पकड़ने वाली टीम ने काफी मश्क्कत के बाद बंदर को पकड़ा। इस दौरान जगदीश नाम का शख्स भी सहायता के लिए पहुंचा और परेशान बंदर ने जगदीश पर हमला कर दिया। जिसकी बाद जगदीश वहां से भाग निकला, जब बंदर उस श्खस के पीछे भागा तब जगदीश अपने ऑटो में छिप गया लेकिन बंदर ने उसके ऑटो की शीट्स फाड़ दी। इस मामले को बताते हुए जगदीश का कहना है कि “मै बहुत डर गया था। मैं जहां जाऊं वो पागल बंदर मेरे पीछे पड़ गया था। उसने मुझे इतनी ज़ोर से काटा कि डॉक्टर्स ने कहा ज़ख़्म ठीक होने में एक महीना लगेगा। मैं अपना ऑटोरिक्शा भी नहीं चला सकता।

बंदर को कैसे पकड़ा गया ?

बता दें 3 घंटे की मशक्कत के बाद बंदर को पकड़ लिया है और वन विभाग की टीम (Karnataka Monkey News) ने उसे जंगल में छोड़ दिया। बंदर को शहर से बाहर निकालकर 22 किलोमीटर दूर बालूर जंगल में छोड़ दिया था। कुछ दिनों के बाद बंदर फिर से गांव में लौट आया। बंदर के आने के बाद ऑटो चालक घर से बाहर निकलने से डर रहा है। बताया जा रहा है कि 8 दिन से घर से बाहर नहीं निकला है।मुझे पता है कि ये वही बंदर है क्योंकि पिछली बार हम सभी ने उसके कान पर एक निशान देखा था। इस बीच, वन विभाग ने बंदर को फिर से पकड़कर दूर जंगल में भेज दिया है।

बंदर पिछा क्यों कर रहा था ?

जोकि रेंज फॉरेस्ट के अनुसार, पहली बार किसी बंदर (Karnataka Monkey News) को इस तरह की हरकत करते देख गया है। हालांकि फिर से वन विभाग ने दूसरी बार बंदर को 22 सितंबर को बंदर को जंगल में छोड़ दिया है। अब सभी लोग उम्मीद कर रहे है कि ये बंदर वापस नहीं आएगा। जिस शख्स के पीछे बंदर पड़ा था वो तो कुछ दिन घर अंदर रहने ही रहेगा। 

Also Read: 10 साल तक गर्लफ्रेंड कमरे में बंद, ‘कहानी को पढ़कर आप भी कहेंगे मुहब्बत हो तो ऐसी’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here